Friday, March 20, 2015

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के थाना सिगरा अन्तर्गत लल्लापुरा में मालिक द्वारा विकलांग मजदूर द्वारा मजदूरी माँगने पर जान से मारने की नियत से अन्य साथियो के साथ हमला कर अधमरा करने की शिकायत पर पुलिस द्वारा आरोपिय के खिलाफ FIR दर्ज न करने व कोइ कार्यवाही न किये जाने के सन्दर्भ में

video

सेवा में,                                         20 मार्च, 2015

श्रीमान अध्यक्ष महोदय,

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग,

नई दिल्ली |

विषय : उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के थाना सिगरा अन्तर्गत लल्लापुरा में मालिक द्वारा विकलांग मजदूर द्वारा मजदूरी माँगने पर जान से मारने की नियत से अन्य साथियो के साथ हमला कर अधमरा करने की शिकायत पर पुलिस द्वारा आरोपिय के खिलाफ FIR दर्ज न करने व कोइ कार्यवाही न किये जाने के सन्दर्भ में |  

महोदय,

      आपको यह अवगत कराना चाहता हूँ कि चाँद बाबू पुत्र स्वर्गीय एखलाक सी 16/72 पितरकुंडा (लल्लापुरा), वाराणसी में मो0 हाजी अल्ताफ के इस मकान में किराये पर रहता है | जो बांये हाथ से विकलांग है | वह मो0 इरशाद उर्फ़ राजू पुत्र श्री सुल्तान म0 न0 सी के 47/28 सरायहड़हा के बड़ा चकरा, लल्लापुरा स्थित कारखाने में कटर मशीन पर पिछले कई वर्षो से मजदूरी कर रहा था | विगत 2 वर्षो से अपनी मजदूरी में से 1000/- रुपये अपने मालिक के पास हर महीने जमा करता था ताकि अपनी बहन के शादी के समय उन पैसो का इस्तेमाल कर सके | लेकिन दिनांक 6 मार्च, 2015 को यह ज्ञात हुआ कि कारखाना मालिक मो0 इरशाद उर्फ़ राजू ने अपना कारखाना मो0 शमीम को बेच दिया है | तो चाँद बाबू ने इरशाद से अपना बकाया पैसा जो हर महीने 1000/- जमा करता था जो अब तक 20000/- रुपये हो गया था उसकी मांग की तब इरशाद उर्फ़ राजू उससे गाली गलौज करने लगा और दुबारा पैसे माँगने पर जान से मारने की धमकी देने लगा |

      इसके बाद 9 मार्च, 2015 को चाँद बाबू ने पुनः अपने पैसे मांगे तब उसने उसे धक्का देते हुए वहाँ से भगा दिया और जान से मारने की धमकी दी | जिससे वह बहुत डर गया और वह वापस कारखाने में अपना काम करने चला गया | इसी बीच 11 मार्च, 2015 को मो0 इरशाद उर्फ़ राजू व उसका छोटा भाई सोनू बिल्डर अपने साथ 10-12 लोग को लेकर चाँद बाबू जहाँ काम कर रहा था वहाँ आये और डंडे, लोहे के सरिया, जूतों से उसे दिनदहाड़े सभी के सामने मारने लगे और कहने लगे जब जिन्दा रहोगे तब न पैसे मांगोगे आज यह किस्सा ही ख़त्म कर देते है |

उन लोगो की मार से चाँद बाबू बेहोश हो गया तब उन लोगो ने उसे मारा समझकर वहाँ से चले गए साथ ही वहाँ काम करने वाले अन्य मजदूरों व मालिक को यह धमकी दिया कि यदि किसी ने भी अपना मुह खोला तो उसका भी अंजाम यही होगा | जिसके बाद कारखाना मालिक ने उसके घर फोन करके बुलाया और उसे शिव प्रसाद गुप्त सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया जहाँ पर डाक्टरों ने बताया कि उसकी हालत बहुत नाजुक है |

उसी दिन 11 मार्च, 2015 को घायल विकलांग की माँ किश्वर जहाँ अपने भाई के साथ सिगरा थाने में शिकायत दर्ज कराने गयी तब पुलिस वालो ने उसे पहले तो शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया लेकिन उसके वही अड़े रहने से सिगरा पुलिस ने केवल एनसीआर दर्ज कर लिया और उसे वहाँ से भगा दिया और कहा अब दुबारा यहाँ मत आना |

आज तक पुलिस ने FIR तक दर्ज नहीं किया और आरोपी आज भी खुले आम घूम रहे है और पीड़ित के माँ व अन्य घरवालो को केस में पैरवी करने पर जान से मारने की धमकी दे रहे है |

अतः आपसे अनुरोध है कि कृपया इस मामले को संज्ञान में लेते हुए पुलिस को FIR दर्ज करने व आरोपियों को गिरफ्तारी के निर्देश देने की कृपा करे साथ ही दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ भी जाँच कराकर केस दर्ज करने का आदेश देने की कृपा करे | साथ ही घायल पीड़ित उसका बकाया पैसा दिलाने की साथ ही साथ मुआवजा दिलाने की कृपा करे ताकि उसका समुचित इलाज व स्वास्थ्य सुधार हो सके | साथ ही भारत सरकार पुलिस सुधार को लागू करते हुए यातना विरोधी क़ानून को अविलम्ब पारित करवाया जाय |

 

 

संलग्नक :

1.       विकलांगता प्रमाण पत्र |

2.       एनसीआर की प्रति

3.       मेडिकल रिपोर्ट |

4.       घायल का विडियो |

 

 

 

भवदीय

डा0 लेनिन रघुवंशी

महासचिव

मानवाधिकार जननिगरानी समिति

सा 4/2 ए दौलतपुर, वाराणसी

+91-9935599333   

No comments:

Post a Comment